राजस्थान मे प्रमुख बांध कौन-कौन से हैं? Dams of Rajasthan

राजस्थान मे प्रमुख बांध कौन-कौन से हैं?– राजस्थान में जवाई बांध, राणा प्रताप बांध, बीसलपुर बांध, जवाहर सागर बांध, अजीत सागर बांध, मोतीझील बांध आदि अनेक प्रकार के प्रमुख बांध राजस्थान में मौजूद है |

तो आज के इस लेख में हम आपको राजस्थान के सभी व प्रमुख बांध के बारे में विस्तार से जानकारी बताएंगे |

राजस्थान मे प्रमुख बांध कौन-कौन से हैं?

1. जंवाई बांध
2. राणा प्रताप सागर बांध
3. बारेठा बांध
4. जवाहर सागर बांध
5. बांकली बांध
6. गांधी सागर बांध
7. अजीत सागर बांध
8. कोटा बैराज
9. पन्नालाल शाह का बांध
10.टोरड़ी सागर बांध
11.लालपुर बांध
12.मोतीझील बांध
13.नंदसमंद बांध
14.सीकरी बांध
15.जाखम बांध
16.पांचना बांध
17.औराई बांध
18.हरसौर बांध
19.नारायण सागर बांध
20.अडवाण बांध

राजस्थान मे प्रमुख बांध कौन-कौन से हैं? Dams of Rajasthan
राजस्थान मे प्रमुख बांध कौन-कौन से हैं? Dams of Rajasthan

राजस्थान के प्रमुख बांध- Dams of Rajasthan

1. जंवाई बांध

जवाई बांध की शुरुआत 13 मई 1946 को जोधपुर के महाराजा उम्मेद सिंह की थी | जवाई बांध को मारवाड़ का अमृत सरोवर भी कहते हैं | जवाई बांध- लूणी नदी की सहायक नदी जवाई पर पाली में स्थित है | जवाई बांध से पाली और संपूर्ण जोधपुर शहर में जलापूर्ति की जाती है |

इस बांध का कार्य 1956 में मुख्य अभियंता मोती सिंह की देखरेख में पूर्ण हुआ | जवाई बांध का निर्माण कार्य इंजिनियर एडगर व फर्गुसन ने करवाया था | जवाई बांध की जल क्षमता को बढ़ाने के उद्देश्य से सन 1971 में सेई बांध परियोजना का निर्माण किया गया, जो उदयपुर के कोटडा तहसील स्थित है |

जवाई बांध में कोटडा तहसील की सेई बांध परियोजना से पानी लाने के लिए पहाड़ में 7 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाई गई | वन अभ्यारण की दृष्टि से जवाई बांध पश्चिम राजस्थान का सबसे बड़ा बांध है |

यह भी पढ़े – राजस्थान के प्रमुख उद्योग – Major Industries of Rajasthan

2. बारेठा बांध

बरेठा बांध का निर्माण कार्य महाराजा रामसिंह ने सन 1897 में शुरू करवाया था, जो सन 1866 में महाराजा जसवंत सिंह के शासनकाल में पूर्ण हुआ | यह बांध भरतपुर के बयाना तहसील के बारेठा गांव में स्थित है |

इस बांध को वन्य जीव अभ्यारण के रूप में घोषित किया गया है | यह बांध दूर से जहाज के समान दिखता है, क्योंकि इस बांध की बनावट जहाज की तरह ही की गई है | इस झील का निर्माण कार्य कमांडर इंजीनियर बहादुर रॉयल की देखरेख में शुरू हुआ था |

 

3. गांधी सागर बांध

गांधी सागर बांध चंबल नदी पर स्थित है, इसका निर्माण 1960 में मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले के भानपुरा तहसील में करवाया गया था | गांधी सागर बांध 510 मीटर लंबा और 62 मीटर चौड़ा बांध है | इस बांध पर विद्युत ग्रह यानि बिजली बनाने का कार्य किया जाता है |

 

4. राणा प्रताप सागर बांध

राणा प्रताप सागर बांध चित्तौड़गढ़ जिले के रावतभाटा नामक स्थान पर स्थित है | राणा प्रताप सागर बांध का निर्माण सन 1970 में पूर्ण हुआ था | विश्व का सबसे सस्ता बांध राणा प्रताप सागर बांध सिर्फ ₹31 करोड़ में बनकर तैयार हुआ था|

राजस्थान में स्थित राणा प्रताप बांध में जल भंडारण की क्षमता अत्यधिक है | इस बांध पर कनाडा की मदद से परमाणु बिजली केंद्र की स्थापना की गई |

 

5. जवाहर सागर बांध

जवाहर सागर बांध का निर्माण कार्य सन 1962 से शुरू होकर 1973 के पूर्ण हुआ | जवाहर सागर बांध कोटा के भुरावास नामक स्थान पर स्थित है | इस बांध से कोटा और बूंदी को सिंचाई हेतु पर्याप्त जल मिल जाता है | जवाहर सागर बांध का मुख्य उद्देश्य बिजली बनाना था |

यहभी पढ़े- राजस्थान के प्रमुख शिलालेख व अभिलेख – राजस्थान के सभी शिलालेखों की जानकारी विस्तार से।

6. कोटा बैराज

कोटा बैराज परियोजना के दोनों तरफ नहरों का निर्माण किया गया है | जिससे एक तरफ का पानी सिंचाई में काम आ सकें | कोटा बैराज बांध की लंबाई 178 किलोमीटर है |

राजस्थान के चंबल कमांड क्षेत्र में कृषि अनुसंधान परियोजना को कनाडा की अंतरराष्ट्रीय विकास एजेंसी के सहयोग से चलाई जा रही हैं |

 

7. टोरड़ी सागर बांध

टोंक जिले के टोरड़ी गांव में इस बांध का निर्माण सन 1886 ई० में करवाया गया | इस बांध से टोंक जिले के आसपास के सभी क्षेत्रों को पीने हेतु व सिंचाई के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी मिलता है |

टोरड़ी सागर बांध के जल निकासी की सभी मौरया को खोलने के बाद एक बूंद भी पानी इस बांध में नहीं रुकता और यह इस बात की विशेषता है |

 

8. जाखम बांध

जाखम बांध की का निर्माण टी.एस.पी जनजाति परियोजना के अंतर्गत किया गया था | जाखम बांध प्रतापगढ़ जिले में जाखम नदी के ऊपर 81 मीटर की ऊंचाई पर बनाया गया है| तथा जाखम नदी के ऊपर एक विद्युत ग्रह का भी निर्माण करवाया गया है |

 

9. बिसलपुर बांध

बीसलपुर बांध का निर्माण टोंक जिले के तत्कालीन राजा टोडारायसिंह नें बिसलपुर गांव में सन 1987 को करवाया था| बीसलपुर बांध का निर्माण बनास व डाई नदी के संगम पर किया गया है |

टोंक-बूंदी व अजमेर जिले को पेयजल सुविधा उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से बीसलपुर बांध का निर्माण कराया गया है | बिसलपुर बांध को एशिया विकास बैंक की सहायता से बनवाया गया है | बीसलपुर बांध परियोजना राजस्थान की सबसे बड़ी पेयजल परियोजना है |

यह भी पढ़े- राजस्थान के प्रमुख किले व दुर्ग – Major Forts of Rajasthan

10. मेजा बांध

मेजा बांध भीलवाड़ा में कोठारी नदी पर स्थित है | इस बांध से मुख्य तौर पर सिंचाई हेतु पानी लिया जाता है | यह बांध तेलवाड़ा के मांडलगढ़ कस्बे में मौजूद है | मेजा बांध पर मेजा पार्क को ‘ग्रीनमाउंट’ के नाम से जाना जाता है |

 

11. पांचना बांध

गुडला गांव व करौली के पास पांच नदियों के संगम पर मिट्टी से बने इस बांध को पांचना बांध कहते हैं | पांचना बांध भद्रावती, भैसावर, बरखेड़ा, माची, व अटा पांच नदियों के संगम पर हुआ हैं|

यह सबसे बड़ा बांध हैै, पांचना बांध का निर्माण अमेरिका की सहायता से करवाया गया था | इसीलिए पांचना बांध परियोजना को अमेरिका के सहयोग से चलाई जा रही हैं |

 

12. औराई बांध

ओराई बांध को बनाने का मुख्य उद्देश्य चित्तौड़गढ़ को पेयजल सुविधा उपलब्ध कराना है | यह बांध चित्तौड़गढ़ में स्थित औराई नदी पर बनाया गया है. इसीलिए इस बांध को ओराई बांध कहते हैं |

 

13. बांकली बांध

बांकली बांध जालौर जिले के बांकली गांव में स्थित हैं, इसीलिए इस बांध को बांकली बांध कहते हैं | बांकली बांध को जालौर जिले में कुलथाना व सुकड़ी नदियों के किनारे पर बनाया गया है |

यह भी पढ़े- राजस्थान के प्रमुख किले व दुर्ग – Major Forts of Rajasthan

14. अडवाण बांध

अडवाण बांध को भीलवाड़ा के आसपास के क्षेत्रों में सिंचाई हेतु बनाया गया है | अडवाण बांध भीलवाड़ा में मानसी नदी पर स्थित है |

 

15. नारायण सागर बांध

नारायण सागर बांध को अजमेर जिले का समुद्र कहा जाता है| यह बांध अजमेर जिले के ब्यावर में खारी नदी पर स्थित है|

 

16. हरसौर बांध

हरसोर बांध का निर्माण सन 1959 में करवाया गया था | इस बांध को नागौर की डेगाना तहसील में बनवाया है | हरसोर बांध से ही लूणियास व हरसौर नगर विकसित किया गया है |

 

17. अजान बांध

भरतपुर के राजा सूरजमल द्वारा अजान बांध का निर्माण कराया गया था | अजान बांध का निर्माण कराने का मुख्य उद्देश्य ‘बाणगंगा व गंभीरी’ नदी के पानी को भरतपुर में आने से रोकना था |

 

18. मोतीझील बांध

मोतीझील बांध को भरतपुर की “लाइफ लाइन” कहा जाता है| इस बांध का निर्माण भरतपुर के तत्कालीन राजा सूरजमल जाट द्वारा करवाया गया था | इस बांध का निर्माण कराने का मुख्य उद्देश्य “रूपारेल व बाणगंगा” नदियों का पानी उत्तर प्रदेश की तरफ निकालना था |

यहभी पढ़े- राजस्थान का इतिहास- राजस्थान का संपूर्ण इतिहास, history of Rajasthan in Hindi

19. नंदसमंद बांध

इस बांध को राजसमंद की ‘जीवन रेखा’ कहा जाता है | नंदसमंद बांध का निर्माण सन 1955 में राजसमंद में बनास नदी के तट पर करवाया गया |

 

20. सीकरी बांध

सीकरी बांध भरतपुर में “रूपारेल नदी” पर स्थित हैं | यह एक प्राचीन बांध है | इस बांध से भरतपुर की डीग कामा इत्यादि तहसील के बाधों को भरा जाता है |

 

21. लालपुर बांध

लालपुर बांध भरतपुर में स्थित है | लालपुर बांध को बाणगंगा नदी से भरा जाता है | इस बांध से भरतपुर के आसपास क्षेत्रों में सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था की जाती है |

यह भी पढ़े- राजस्थान के प्रमुख व प्रसिध्द लोकगीत – Rajasthani Folk Song (Rajasthani Lokgeet)

22. अजीत सागर बांध

अजीत सागर बांध राजस्थान के प्राचीन बांधों में से एक हैं | इस बांध का निर्माण झुंझुनू की खेतड़ी क्षेत्र में करवाया गया है, जो तांबे के लिए विश्व विख्यात है |

 

23. पन्नालाल शाह का बांध

पन्नालाल शाह बांध का निर्माण झुंझुनू के खेतड़ी क्षेत्र में करवाया गया | यह बांध खेतड़ी में पेयजल का प्रमुख साधन है | पन्नालाल साहब बांध से खेतों में सिंचाई हेतु भी पानी का उपयोग किया जाता है |

यह भी पढ़े- राजस्थान के प्रमुख लोकनृत्य- Folk Dance of Rajasthan

अंतिम शब्द

इस आर्टिकल में हमने आपको राजस्थान के सभी प्रमुख बांध के बारे में संपूर्ण जानकारी बताई है | तो उम्मीद करते हैं कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी | राजस्थान मे प्रमुख बांध कौन-कौन से हैं? Dams of Rajasthan.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *