राजस्थान के प्रमुख उद्योग – Major Industries of Rajasthan

राजस्थान के प्रमुख उद्योग – राजस्थान में चीनी उद्योग, सूती वस्त्र उद्योग, सीमेंट उद्योग, नमक उद्योग, कांच उद्योग, वनस्पति घी उद्योग आदि बड़े पैमाने के उद्योग हैं | राजस्थान की अर्थव्यवस्था और विकास में इन सभी बड़े उद्योग का अहम योगदान है |

यह भी पढ़े- राजस्थान के प्रमुख किले व दुर्ग – Major Forts of Rajasthan

राजस्थान में प्रमुख उद्योग कौन-कौन से है |

1. सूती वस्त्र उद्योग

2. चीनी उद्योग

3. वनस्पति घी उद्योग

4. नमक उद्योग

5. ऊन उद्योग

6. सीमेन्ट उद्योग

7. इंजीनियरिंग उद्योग

8. रासायनिक उद्योग

9. कांच उद्योग

 

Also read – राजस्थान के प्रमुख लोकनृत्य- Folk Dance of Rajasthan

 

राजस्थान के प्रमुख उद्योग- Industries of Rajasthan in Hindi

 

सूती वस्त्र उद्योग

राजस्थान के सभी बड़े पैमाने के उद्योगों में से एक “सूती वस्त्र उद्योग” राजस्थान का सबसे प्राचीनतम उद्योग है | राजस्थान में सर्वप्रथम सूती वस्त्र की मिल “दी कृष्णा मिल्स लिमिटेड” स्थापित हुई थी | सूती वस्त्र की इस मिल को सन 1889 में सेट दामोदर दास राठी व श्यामजी कृष्ण वर्मा ने ब्यावर में स्थापित की थी |

ब्यावर में स्थापित सूती वस्त्र की मिल की सफलता को देखते हुए ब्यावर शहर रहे 1996 ‘एडवर्ड मिल्स लिमिटेड’, 1925 में ‘श्री महालक्ष्मी मिल्स लिमिटेड’ की स्थापना की गई |

वर्तमान समय में निजी क्षेत्र, सहकारी क्षेत्र व सरकारी क्षेत्र इन तीनों ही क्षेत्रों में सूती वस्त्र की मिले मौजूद है, क्योंकि सूती वस्त्र का इस्तेमाल राजस्थान में बड़े पैमाने पर होता है और ये बड़े पैमाने का उद्योग बन चुका है |

यह भी पढ़े- सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना राजस्थान – Social Security Pension Yojana

राजस्थान में सबसे बड़ी सूती वस्त्र की मील “उम्मेद मिल्स” जो पाली में स्थित है | राजस्थान में वर्तमान समय में सूती कपड़े की कुल 23 मीलें स्थापित हैं |

राजस्थान के प्रमुख उद्योग
राजस्थान के प्रमुख उद्योग

सीमेन्ट उद्योग

राज्य में स्थित सीमेंट का उद्योग राजस्थान ही नहीं बल्कि संपूर्ण भारत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | राजस्थान में इस समय देश की सबसे बड़े व अनेक सारे सीमेंट के संयत्र मौजूद है, जो देश भर में सीमेंट का निर्यात करते है |

राजस्थान में सर्वप्रथम “क्लिक निक्सन कंपनी” ने 1915 में लाखेरी बूंदी क्षेत्र में सीमेंट संयंत्र स्थापित किया था | उसके बाद “जयपुर उद्योग लिमिटेड” जो सवाई माधोपुर वर्ष 1953 से 1959 में स्थापित हुई, परंतु 1986 में जयपुर उद्योग लिमिटेड में सीमेंट का उत्पादन बंद कर दिया |

उत्तरी भारत की सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी “श्री सीमेंट कंपनी” है, जो ब्यावर में स्थित है | इसके अलावा “जेके सीमेंट, बिरला सीमेंट, उदयपुर सीमेंट, मंगलम सीमेंट, श्री सीमेंट, जेके व्हाइट सीमेंट इत्यादि अनेक प्रकार के सीमेंट संयंत्र राज्य में स्थापित है |

रासायनिक उद्योग

इस समय रसायन उद्योग भी राज्य में काफी फला-फुला हैं |
राज्य का पहला कारखाना “राजस्थान स्टेट केमिकल्स वर्क्स लिमिटेड” हैं, जो नागौर के डीडवाना में स्थित है | तथा जैव उर्वरक खाद का कारखाना भरतपुर जिलें में है | इसके अलावा अनेक सारे जैव उर्वरक कारखाने व केमिकल कंम्पनी निजी क्षेत्र में मौजूद हैं |

Also read – राजस्थान के प्रमुख व प्रसिध्द लोकगीत – Rajasthani Folk Song (Rajasthani Lokgeet)

इंजीनियरिंग उद्योग

वर्तमान समय में राज्य में इंजीनियरिंग उद्योग भी मुख्य उद्योग हैं | इंजीनियरिंग क्षेत्र में बिजली के मीटर तैयार करने वाली कंम्पनी “जयपुर मेटल्स” हैं, यह जयपुर में स्थित है | पानी के मीटर तैयार करने वाली कंम्पनी “कैप्सटन मीटर कम्पनी” पाली व जयपुर में स्थित है |

जयपुर व संपूर्ण राज्य में स्थित “मान इण्डस्ट्रीयल कॉर्पोरेशन, हिन्दुस्तान मशीन टूल्स, इन्स्टूमेण्टेशन लिमिटेड, सिमको वैगन फैक्ट्री, राजस्थान इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड इन्स्टूमेण्टेशन लिमिटेड, नेशनल इंजीनियरिग इण्डस्ट्रीज” इत्यादि अनेक प्रकार की कंम्पनीया राजस्थान में स्थित है, जो तरह-तरह के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण व वस्तुओं का निर्माण करती हैं |

चीनी उद्योग

राजस्थान में सर्वप्रथम चीनी मिल चित्तौड़गढ़ जिले के भोपाल सागर नमक नगर में स्थापित किया था | यह मिल सन 1932 में निजी क्षेत्र में खोली गई थी, उसके बाद वर्ष 1938 में ” गंगानगर चीनी मिल्स” की स्थापना हुई, वर्ष 1965 में “श्री केशोरायपाटन सरकारी चीनी मिल्स” स्थापित हुई |

वर्तमान समय में राजस्थान में चीनी की ३ मिल है, जो सार्वजनिक व सरकारी क्षेत्र में होने के कारण उत्पादन की तुलना का भी अवसर प्रदान करती है |

यह भी पढ़े- राजस्थान के राष्ट्रीय उद्यान एवं वन्य जीव अभयारण्य- Wildlife Sanctuary in Rajasthan

कांच उद्योग

भारत का ‘सिलिका उत्पादन’ का दूसरा सबसे बड़ा स्थान राजस्थान है | राजस्थान में कांच बनाने का उद्योग देश में बड़े पैमाने पर होता है | कांच बनाने हेतु सिलिका मिट्टी, मिट्टी, सोडा, सल्फेट, चुने का पत्थर इत्यादि कांच बनाने की संपूर्ण सामग्री पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है |

राज्य में कांच बनाने के लिए मजदूर भी मौजूद है | राजस्थान में कांच बनाने के लिए दो कारखाने प्रमुख है-

१. राजस्थान में कांच बनाने का कारखाना निजी क्षेत्र में “धौलपुर ग्लास वर्क्स” है |

२. दूसरा कारखाना “high tech Precision Glass Work” जो ‘गंगानगर शुगर मिल्स लिमिटेड’ के अंतर्गत आता है |

यह कारखाना मदिरा विभाग के लिए शराब की बोतलें भी तैयार करता है |

चश्मे का लेंस, चश्मा का निर्माण करने वाली उदयपुर की कंपनी “बॉच एण्ड लाम्ब लिमिटेड” (भिवंडी) अलवर में स्थित है |

वनस्पति घी उद्योग

राजस्थान में वनस्पति घी का उद्योग बड़े पैमाने पर किया जाता है | वनस्पति घी का निर्माण हेतु मूंगफली व बिनौले का तेल प्रमुख कच्चा माल है | राजस्थान में सबसे पहले भीलवाड़ा में 1984 में वनस्पति घी का कारखाना खोला गया था |

यह भी पढ़े- राजस्थान में खनिज संम्पदा- राजस्थान के खनिज संसाधन Major Minerals in rajasthan

वर्तमान समय में राजस्थान में वनस्पति घी बनाने के कुल 9 कारखाने मौजूद है, जो जयपुर, भरतपुर, कोटा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, गंगानगर इत्यादि विभिन्न शहरों में मौजूद है | राजस्थान में बड़े पैमाने पर वनस्पति घी का उत्पादन होने के बावजूद राज्य में वनस्पति घी की मांग लगातार बढ़ रही है |

ऊन उद्योग

राजस्थान देश में लगभग 40% ऊन का उत्पादन करता है | भेड़ो का ऊन के उत्पादन में भारत में राजस्थान पहले स्थान पर है | राजस्थान के बीकानेर में एशिया की सबसे बड़ी ऊन मण्डी बनी हुई है | केन्दीय ऊन बोर्ड राजस्थान (जोधपुर) में स्थित है | ऊनी कपड़े के कारखाने भीलवाडा में स्थित है |
विदेशों से ऊन का आयात-निर्यात करने हेतु कोटा में केन्द्र बनवाया गया है |

यह भी पढ़े- राजस्थान के प्रमुख राजवंश एवं उनके शासन क्षेत्र Rajasthan ke Parmukh Rajwansh

नमक उद्योग

भारत में नमक उत्पादन की दृष्टि से राजस्थान देश का एक महत्वपूर्ण स्थान है, क्योंकि राजस्थान में खारे पानी की प्रमुख जिले में मौजूद है | वर्तमान में राजस्थान में सार्वजनिक व निजी क्षेत्रों में नमक का उत्पादन किया जा रहा है | झीलो से नमक उत्पादन करने में राजस्थान देश का प्रथम स्थान है |

सांभर झील में नमक का उत्पादन “साभर साल्ट लिमिटेड” की देखरेख में हो रहा है, जो “हिंदुस्तान साल्ट लिमिटेड” कंपनी पर सरकार का उपक्रम है | राजस्थान की सांभर झील से बने नमक अपनी गुणवत्ता के लिए प्रसिद्ध है |

नमक पर आधारित राजस्थान सरकार का 3 उपक्रम डीडवाना और पचपदरा में मौजूद है | राजस्थान में पोकरण, कुचामन, फलोदी, नागौर इत्यादि नमक उत्पादन के निजी व लघु पैमाने के बड़े उद्योग है |

Also read – राजस्थान का इतिहास- राजस्थान का संपूर्ण इतिहास, history of Rajasthan in Hindi

अंतिम शब्द

आज के इस आलेख में हमने आपको राजस्थान के प्रमुख उद्योगों के बारे में विस्तार से बताया है, जैसे- राजस्थान का नमक उद्योग, राजस्थान का ऊन उद्योग, राजस्थान का चीनी मिल उद्योग, इंजीनियरिंग उद्योग, राजस्थान का सूती वस्त्र उद्योग, रासायनिक उद्योग, राजस्थान का सीमेंट उद्योग, राजस्थान का वनस्पति घी उद्योग, राजस्थान का कांच उद्योग|

तो उम्मीद करते हैं कि यह आर्टिकल आपको जरूर पसंद आया होगा | इस लेख को आप अपने मित्रों के साथ सोशल मीडिया के जरिए साझा जरूर करें |

यह भी पढ़े- राजस्थान की प्रमुख चित्रकला/चित्रशैली – पूरी जानकारी विस्तार से |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *