राजस्थान में कितने उपखण्ड है? Rajasthan Ke Upkhand

राजस्थान में कितने उपखण्ड है? – राजस्थान में कुल 244 उपखण्डहै। सभी अलग-अलग जिलों में अलग-अलग उपखंड निर्धारित किए गए हैं। इन सभी उपखंड कार्यालयों का काम विकास और सरकार की नीतियों को प्रत्येक आम जन तक पहुंचाना होता है। उपखंड के जरिए ही राज्य सरकार और केंद्र सरकार द्वारा लागू की गई योजनाओं, नीतियों और कानून-व्यवस्था, प्रशासनिक व्यवस्था को बेहतर ढंग से पहुंचाया जाता है, उसका निर्वाहन किया जाता है।

उपखंड क्या होता है?

किसी भी राज्य में प्रशासन और शासन को बेहतर ढंग से चलाने के लिए, सरकार की योजनाओं और नीतियों को प्रत्येक आमजन तक पहुंचाने के लिए और सरकार के सुविधाओं को लोगों तक पहुंचाने के लिए उपखंड बनाया गया है। इस भूखंड पर कार्यरत मुख्य अधिकारी “उप कलेक्टर” कहलाता है या इसे आमतौर पर “उपखंड अधिकारी” भी कहते हैं।

राजस्थान में कुल कितने जिले हैं? Rajasthan Ke Sabhi Distric

उपखंड क्या कार्य करता है?

जिस तरह से बेहतर प्रशासन एवं कानून व्यवस्था और सरकार की नीतियां लाभ एवं योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने के लिए और बेहतर तरीके से शासन व्यवस्था का निर्वाहन करने के लिए देश में राज्य हैं, राज्यों में जिले हैं, उसी तरह से जिलों में उपखंड बनाए गए हैं। उपखंड के जरिए राज्य और केंद्र सरकार की नीतियों लाभ एवं योजनाओं का लाभ आम जनता तक पहुंचाया जाता है। उपखंड के जरिए ही शासन एवं प्रशासन का निर्वाहन किया जाता है‌।

Also Read – राजस्थान का क्षेत्रफल कितना है? Rajasthan Ka Kshetrafa Kitna Hai?

उपखंड किसे कहते हैं?

जिले की राजस्व एवं प्रशासनिक व्यवस्था को मध्य नजर रखते हुए सरकार की नीतियों और योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए जिलों को इकाइयों में विभाजित किया जाता है, इन इकाइयों को उपखंड कहते हैं। उपखंड को अंग्रेजी में “sab division” कहते हैं। किसी भी उपखंड का सर्वोच्च अधिकारी “उपखंड अधिकारी” कहलाता है। इसे अंग्रेजी में “sab division officer” कहते हैं। आमतौर पर शॉर्ट फॉर्म में उपखंड अधिकारी को “SDO” कहते हैं। आमतौर पर तीन से चार तहसीलों पर एक उपखंड होता है। राजस्थान में कुल 244 उपखंड बने हुए हैं।

राजस्थान के सभी उपखंड – किस जिले में कितने उपखंड हैं?

गंगानगर में 9 उपखंड है।

हनुमानगढ़ में 7 उपखंड है।

चूरु जिले में 8 उपखंड है।

झुंझुनू जिले में 6 उपखंड है।

बीकानेर में 6 उपखंड है।

अलवर में 12 उपखंड है।

भरतपुर में 10 उपखंड है।

सवाई माधोपुर में 7 उपखंड है।

करौली में 6 उपखंड है।

धौलपुर में 5 उपखंड है।

माधोपुर में 7 उपखंड है।

दौसा जिले में 5 उपखंड है।

जयपुर जिले में 13 उपखंड है।

सीकर में 6 उपखंड है।

नागौर में 10 उपखंड है।

जैसलमेर में 3 उपखंड है।

राजस्थान की जनसंख्या कितनी है? Rajasthan Ki Janshankiya

जोधपुर में 7 उपखंड है।

सिरोही जिले में 5 उपखंड है।

बाड़मेर में 8 उपखंड है।

जालौर में 7 उपखंड है।

पाली जिले में 9 उपखंड है।

अजमेर में 9 उपखंड है।

टोंक जिले में 7 उपखंड है।

बूंदी जिले में 5 उपखंड है।

भीलवाड़ा में 12 उपखंड है।

राजसमंद में 7 उपखंड है।

डूंगरपुर में 5 उपखंड है।

चित्तौड़गढ़ में 5 उपखंड है।

कोटा जिलें में 8 उपखंड है।

बांसवाड़ा में 10 उपखंड है।

बांरा जिलें में 7 उपखंड है।

झालावाड़ में 11 उपखंड है।

उदयपुर में 4 उपखंड है।

प्रतापगढ़ में 5 उपखंड है।

"<yoastmark

राजस्थान में कुल कितने उपखंड हैं?

          जिलें अनुसार राजस्थान में उपखंड की संख्या
क.स. जिला  उपखंड की संख्या 
1. अजमेर  9
2. अलवर  12
3. बांसवाड़ा  18
4. बारा  7
5. बूंदी  5
6. बाड़मेर  8
7. बीकानेर  6
8. भरतपुर 10
9. भीलवाड़ा  12
10. चित्तौड़गढ़  5
11. चूरू  8
12. दौसा  5
13. डूंगरपुर  5
14. धौलपुर  5
15. श्रीगंगानगर  9
16. हनुमानगढ़  7
17. जयपुर  13
18. जैसलमेर  3
19. जोधपुर  7
20. जालौर  7
21. झालावाड़  11
22. झुंझुनू  6
23. करौली  6
24. कोटा  8
25. नागौर   10
26. पाली  9
27. प्रतापगढ़  5
28. राजसमंद  7
29. सिरोही  5
30. सीकर  6
31. सवाई माधोपुर  7
32. टोंक  7
33. उदयपुर 4

 

राजस्थान में कुल कितने गांव हैं? Rajasthan Me Kul kitne Gaav Hai

उपखंड अधिकारी कैसे बनते हैं? उपखंड अधिकारी की नियुक्ति कैसे होती है?

लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा के आधार पर ही उपखंड के मुख्य अधिकारी SDO की नियुक्ति की जाती है। उपखंड अधिकारी बनने के लिए आप तहसीलदार भी बन सकते हैं क्योंकि तहसीलदार का प्रमोशन होने पर भी उपखंड अधिकारी बनाया जाता है। उपखंड अधिकारी SDO का ट्रांसफर या प्रमोशन केवल कार्मिक विभाग ही कर सकता है।

उपखंड अधिकारी SDO के क्या कार्य होते हैं?

उपखंड अधिकारी मुख्य रूप से प्रशासनिक एवं कानूनी संबंधित कार्य करता है। किसी भी उपखंड का मुख्य अधिकारी राजस्व संबंधी कार्य अपनी देखरेख में करता है। उपखंड अधिकारी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले एरिया की फसल का आकलन करके उससे संबंधित रिपोर्ट तैयार करके जिला कलेक्टर को सोंपता हैं‌ उपखंड क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले सभी गांव का भू-अभिलेख तैयार करना उपखंड अधिकारी का कार्य होता है। उपखंड अधिकारी अपने सत्र के अंतर्गत आने वाले सभी ग्राम पंचायत की फसल भूमि और राजस्व से संबंधित समस्याओं का निवारण करता है।

SDO (उपखंड) का सर्वोच्च अधिकारी –

किसी भी उपखंड के सर्वोच्च अधिकारी को “उपखंड सर्वोच्च अधिकारी” कहते हैं। इसे अंग्रेजी में “SDM” कहते हैं। SDM की फुल फॉर्म “sab divisional magistrate” होता है। जिस तरह से राज्य स्तर के सभी काम जिला कलेक्टर करता है। राज्य स्तर पर सर्वोच्च अधिकारी जिला कलेक्टर होता है। ठीक उसी प्रकार उपखंड स्तर के सभी कार्य SDM करता है।

उपखंड स्तर का सर्वोच्च अधिकारी SDM होता है। SDM का कार्य अपने अंतर्गत आने वाले सत्र में कानून व्यवस्था बनाए रखना और प्रशासन को सुनियोजित तरीके से चलाना होता है। उपखंड के सर्वोच्च अधिकारी पुलिस प्रशासन को अपने अनुसार आदेश दे सकता है और जांच बेटा सकता है। यहां तक कि किसी भी उपखंड का सर्वोच्च अधिकारी धारा 144 भी लगा सकता है।

राजस्थान में कितने संभाग हैं? Rajasthan Ke Sambhag 

FAQ : उपखंड से संबंधित प्रश्न एवं उत्तर –

राजस्थान में सबसे अधिक उपखंड किस जिले में है?

जयपुर जिले में 13 उपखंड बने हुए हैं जयपुर जिले को राजस्थान का सर्वाधिक उपखंड वाला जिला बनाता है

राजस्थान में सबसे कम उपखंड किस जिले में है?

जैसलमेर जिले में 3 उपखंड बने हुए हैं जो जैसलमेर जिले को राजस्थान का न्यूनतम उपखंड वाला जिला बनाता है

राजस्थान का दूसरा सर्वाधिक उपखंड वाला जिला कौनसा है?

राजस्थान में सर्वाधिक उपखंड वाले जिले की सूची में दूसरे स्थान पर भीलवाड़ा का नाम आता है। भीलवाड़ा में 12 उपखंड मुख्यालय बनें हुए हैं।

Rajasthan राजस्थान में कितने उपखण्ड है?

राजस्थान में कुल 244 उपखण्डहै।

राजस्थान के दूसरे न्यूनतम उपखंड वाले जिले कौन-कौनसे हैं?

Rajasthan में दूसरे स्थान पर न्यूनतम उपखंड वाले जिले प्रतापगढ़, धौलपुर, दोसा, बुंदी, चित्तौड़गढ़ एवं सिरोही है।

राजस्थान में उपखंड मुख्यालय कहां पर स्थित होता है?

Rajasthan में उपखंड मुख्यालय किसी एक तहसील के अंतर्गत स्थित होता है क्योंकि तीन चार तहसील को मिलाकर एक उपखंड बनाया जाता है जिनमें सबसे लोकप्रिय या बड़ी तहसील में उपखंड मुख्यालय खोला जाता है।

राजस्थान में कुल कितनी तहसील है? सभी तहसीलों के नाम – Rajasthan ki Tehsil

Conclusion

राजस्थान में कुल 244 उपखंड है। यह सभी उपखंड राजस्थान के कुल 35 जिलों में बंटे हुए हैं। राजस्थान के सभी जिलों में उनकी आवश्यकताओं के अनुसार उपखंड दिए गए हैं। किसी भी जिले में सुनियोजित और बेहतर तरीके से कानून व्यवस्था बनाए रखने और प्रशासनिक तरीकों से कार्य करने के लिए उपखंड अत्यंत जरूरी इकाई होते हैं। इसीलिए आज के इस आर्टिकल में हमने आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार से बताया है कि राजस्थान में कुल कितने उपखंड हैं? राजस्थान में उपखंड क्या होते हैं? उपखंड का क्या कार्य होता है? उपखंड मुख्य अधिकारी कौन होता है? और उपखडं का मुख्य एवं सर्वोच्च अधिकारी कैसे बनते हैं?

Namaskar Aap Sabhi Ka SkyRajasthan.com Par Bhoot Bhoot Suwagat Hai. Yha Par Aapko Rajasthan Se Releted Lagbhag Sabhi Parkaar Ki Jankari Aasaan Bhasaa Me Milegi. Muje Article Writing Ka 5+ Year Ka Experience Hai. Eske Alawa New Jankari Padna Our Logo Ke Saat Share Karna Accha Lagta Hai.