सरपंच कैसे बने? सरपंच की सैलरी, योग्यता, कार्य, अधिकार

सरपंच कैसे बने? सरपंच की सैलरी– सरपंच का चुनाव ग्रामीण क्षेत्र की राजनीति का महत्वपूर्ण भाग होता है। सरपंच गांव का मुखिया होता है, जो गांव का कामकाज देखता है। सरपंच के जरिए ही गांव का विकास कार्य होता है। सरकार द्वारा गांव के विकास कार्य की धनराशि सरपंच को ट्रांसफर कर दी जाती है। उसके बाद सरपंच अपनी देखरेख में अपने अनुसार गांव का विकास कार्य करवाता है।

सरपंच का काम होता है कि वह अच्छी तरह से अपने गांव की देखभाल करें और अपने गांव का विकास करें। सरपंच ग्रामीण क्षेत्र की राजनीति में अहम भूमिका निभाता है। सरपंच विधायक से संपर्क में रहता है तथा गांव में जिस भी तरह के और जैसा भी विकास करवाना होता है, उसकी रिपोर्ट विधायक को देता है और विधायक आगे मुख्यमंत्री तक पहुंचाता है। सरपंच का पद ग्रामीण क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण और सम्मानजनक पद है। सरपंच की सैलरी

उपसरपंच कैसे बनें? उपसरपंच की सैलरी, योग्यता, कार्य, अधिकार 

सरपंच बनने के बाद उन्हें गांव के विकास हेतु अनेक तरह के काम करने होते हैं। सरपंच को ग्राम की जनता वोट देकर चुनती हैं, लेकिन उन्हें कोई खास वेतन नहीं मिलता। फिर भी वे विकास के बजट में से अपनी कमाई कर लेते हैं। यही वजह है कि ग्रामीण क्षेत्र में सरपंच की कुर्सी के लिए लोगों में होड़ लगी रहती हैं। गांव का सरपंच बनने के लिए लोग लाखों रुपए खर्च कर देते हैं। सरपंच की सैलरी

सरपंच का गांव में एक विशिष्ट पद माना जाता है। तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको सरपंच से संबंधित पूरी जानकारी विस्तार से बताएंगे। कि सरपंच क्या होता है? सरपंच कैसे बनता है? सरपंच का चुनाव कैसे होता है? सरपंच की कमाई कैसे होती है? सरपंच को कितनी सैलरी मिलती है? सरपंच का कार्यकाल कितना होता है? सरपंच को कौन हटा सकता है? इत्यादि संबंधित जानकारी इस आर्टिकल में आने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं।

Sarpanch kya hota hai? Sarpanch ki salary kitni hoti hai
Sarpanch kya hota hai? Sarpanch ki salary

 

सरपंच क्या होता है – (Sarpanch Kya Hota Hai)

सरपंच गांव का मुखिया होता है, जो अपने कार्यकाल के दौरान गांव का विकास और देखभाल करता है। सरपंच सरकार द्वारा पेश किए गए बजट से अपनी देखरेख में गांव का विकास करवाता है और गांव की सभी जरूरतों को पूरा करता है। गांव के सभी विकास कार्य और जरूरतों को पूरा करने की जिम्मेदारी सरपंच की होती है। सरपंच का अर्थ सर्व ग्राम यानी गांव का पंच होता है। ग्रामीण क्षेत्र में सरपंच की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ग्रामीण क्षेत्र में सरपंच को अत्यधिक सम्मानजनक पद माना जाता है।

सरपंच चुनाव कैसे होते है – (Voting For Sarpanch)

सरपंच का चुनाव राज्य के पंचायती राज चुनाव आयोग द्वारा करवाया जाता है। प्रत्येक ग्राम पंचायत में अलग-अलग वार्ड में वार्ड पंच होते हैं तथा उन सभी का मुखिया के रूप में सरपंच होता है। ग्राम पंचायत में सरपंच के अलावा उप सरपंच भी होता है जो सरपंच की गैरमौजूदगी में गांव का कार्यभार संभालता है।

गांव में उप सरपंच और वार्ड पंच का भी चुनाव होता है लेकिन आमतौर पर बिना चुनाव किए ही प्रतिनिधि को पद दे दिया जाता है। प्रत्येक राज्य के पंचायती राज चुनाव के अंतर्गत ग्राम पंचायत के चुनाव प्रत्येक 5 साल में करवाए जाते हैं।

सरपंच पद की चुनाव प्रक्रिया – (Sarpanch Election)

सरपंच के चुनाव हेतु राज्य के पंचायती राज आयोग के अंतर्गत सरकार सीटों का चयन करती हैं। आमतौर पर सरपंच पद हेतु सीटों का चयन श्रेणी के अनुसार होता है। जैसे- सामान्य, ओबीसी वर्ग, एससी, एसटी, इत्यादि। सरकार सभी गांव में जिस भी वर्ग की सीट प्रदान करती है, उस सीट पर उस वर्ग के व्यक्ति सरपंच प्रतिनिधि के तौर पर खड़े हो सकते हैं।

गांव का सरपंच जनता के वोट और जनता के द्वारा निर्मित ही चुना जा सकता है। आमतौर पर गांवों में चुनाव होते हैं, जबकि कभी कबार कहीं पर बिना चुनाव के ही सरपंच नियुक्त कर दिया जाता है। चुनाव में जिस भी उम्मीदवार को ज्यादा वोट मिलते हैं, उसे सरपंच बना दिया जाता है। इसके बाद गांव का विकास करवाता है और गांव की जिम्मेदारी अपने कंधे पर लेता है। सरपंच की सैलरी

सरपंच बनने के लिए योग्यता – (Eligibility For Sarpanch)

  • सरपंच पद का उम्मीदवार ग्राम पंचायत का मूल निवासी होना चाहिए।
  • सरपंच पद के उम्मीदवार की आयु कम से कम 21 वर्ष होनी चाहिए।
  • सरपंच पद का उम्मीदवार अत्यधिक गरीब नहीं होना चाहिए।
  • सरपंच पद के उम्मीदवार के पास पहचान हेतु पहचान पत्र होना चाहिए।
  • उम्मीदवार के दो से अधिक बच्चे नहीं होने चाहिए।
  • सरपंच उम्मीदवार को अपनी आय की जानकारी देनी होती हैं।
  • सरपंच पद का उम्मीदवार अपराधी नहीं होना चाहिए।

 

सरपंच बनने के लिए जरूरी डॉकयुमेंट – (Documents Required For Sarpanch)

 

निर्वाचन पत्र

आधार कार्ड

मूल निवास प्रमाण पत्र

पैन कार्ड

जाति प्रमाण पत्र

शौचालय प्रमाण पत्र

आय प्रमाण पत्र

पासपोर्ट साइज फोटो

 

सरपंच कैसे कमाते है – (Sarpanch Earning)

सरपंच गांव के विकास कार्यों के पैसों से कमाई करता है। जितने भी ग्रामीण क्षेत्र में सरकारी कार्य हेतु बजट पास होता है, उस बजट में से सरकार अपनी देखरेख में कार्य करवा कर कुछ पैसे रख लेता है। सरपंच की कमाई कितनी होती हैं? सरपंच पैसा कैसे कमाता है?

इन सवाल का जवाब हमारे लिए जानना तब जरूरी हो जाता है, जब हम सरपंच के चुनाव में लाखों रुपए खर्च होते हुए देखते हैं। जब भी हमारे ग्राम पंचायत में चुनाव होते हैं! तो सरपंच का चुनाव जीतने हेतु उम्मीदवार लाखों और करोड़ों रुपए तक खर्च कर देते हैं। इसीलिए हमारे मन में यह सवाल उठता है कि आखिर सरपंच इतने पैसे खर्च करने के बाद कितने पैसे कमाते हैं?

सरपंच का कार्यकाल कितना होता है? (Sarpanch Time Period in Hindi)

भारत के सभी राज्यों के ग्राम सरपंच का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है। जनता द्वारा चुना हुआ प्रत्येक सरपंच 5 वर्ष तक अपना कार्यभार संभालते हैं। इस दौरान यदि सरपंच कोई गलत कार्य करता है, तो उसे बीच में भी हटाया जा सकता है। प्रत्येक 5 वर्ष बाद फिर से सरपंचों के चुनाव करवाए जाते हैं। आमतौर पर हमारे देश में सभी राजनीतिक पद का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है। इस दौरान सरपंच सरकार द्वारा ग्रामीण विकास कार्य के बजट को अपनी देखरेख में गांव के सुख सुविधा और विकास के लिए खर्च करता है और ग्राम का विकास करवाता है।

सरपंच कि सैलरी कितनी होती हैं – (Sarpanch Sallery)

ग्राम सरपंच की सैलरी ₹3000 महीना होती है। इसके अलावा सरपंच को सरकार द्वारा हर रोज के ₹100 अतिरिक्त भत्ता के तौर पर दिए जाते हैं। इसके अलावा यातायात व कुछ जरूरी खर्चों के तौर पर भता दिया जाता है, जो हर महीने लगभग ₹20000 होता है।‌ लेकिन मात्र इन ₹20000 के लिए ही कोई व्यक्ति सरपंच नहीं बनता है। सरपंच एक सम्मानजनक पद के लिए बनते हैं और विकास कार्यों के पैसों से मोटी कमाई भी करते हैं।

वार्ड पंच कैसे बनें? वार्ड पंच की सैलरी, योग्यता, कार्य, अधिकार 

सरपंच कितना पैसा कमाते हैं – (Sarpanch How Much Earn Money)

सरपंच अपने 5 वर्ष के कार्यकाल के दौरान लगभग 70-80 लाख रुपए आसानी से कमा लेता है। प्रत्येक 5 वर्ष में ग्रामीण विकास कार्यों हेतु सरकार द्वारा 6 से 8 करोड़ रुपए का बजट पेश किया जाता है। इन पैसों को सरपंच अपनी देखरेख में विकास कार्य के लिए खर्च करता है। ग्राम का विकास करवाता है। इसीलिए सरपंच आसानी से अपनी मोटी कमाई कर लेता है।

सरपंच की सैलरी हर महीने ₹3000 मिलती हैं। इसके अलावा कुछ सरकारी भत्ते को मिलाकर हर महीने लगभग ₹20000 सरकार की तरफ से सरपंच को सैलरी के तौर पर दिए जाते हैं। लेकिन इन ₹20000 के लिए कोई भी व्यक्ति लाखों और करोड़ों रुपए खर्च करके सरपंच नहीं बनता है। सरपंच बनना गांव में एक सम्मानजनक पद माना जाता है। इसके अलावा सरपंच अनेक प्रकार के सरकारी विकास कार्यों के बजट से मोटी कमाई करते हैं।

सरपंच के अधिकार कौन-कौन से हैं – (Sarpanch s’ Rights)

  • सरपंच ग्राम पंचायत की बैठक की अध्यक्षता करता है।
  • गांव की सभी जरूरी और महत्वपूर्ण ग्राम पंचायत की बैठक सरपंच की अध्यक्षता में ही संपन्न होती हैं।
  • ग्राम पंचायत की बैठक में सरपंच का फैसला ही सर्वोपरि माना जाता है।
  • गांव के कार्यकारी और वित्तीय ढांचे की संपूर्ण शक्तियां सरपंच के हाथ में होती है।
  • ग्राम पंचायत में कार्यरत सभी सरकारी अधिकारियों का कार्य सरपंच की देखरेख में होता है।
  • ग्राम पंचायत में कार्यरत सभी सरकारी अधिकारी सरपंच को यह समस्या और परेशानी बताते हैं।
  • गांव का नेतृत्व और जिम्मेदारी सरपंच का दायित्व होता है

 

सरपंच के कार्य की लिस्ट – (Sarpanch Work List)

  • गांव में जरूरी और महत्वपूर्ण विकास कार्य को जल्द से जल्द करवाना।
  • टूटी हुई सड़कों का निर्माण करवाना।
  • जरूरी और महत्वपूर्ण सड़कों व भवन का निर्माण करवाना।
  • स्कूल और सरकारी कार्यालय का निर्माण करवाना।
  • ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय और सरकारी कार्यालय की जिम्मेदारी उठाना।
  • ग्राम के सभी विवाद और झगड़े को समाप्त करना।
  • गांव में शांति व्यवस्था बनाए रखना।
  • गांव के सभी जाति और धर्म के लोगों को समानता का अधिकार प्रदान करना।

 

FAQ : सरपंच से संबंधित कुछ प्रश्न उत्तर –

 

Q. सरपंच कौन बन सकता है?

21 वर्ष से अधिक आयु का कोई भी गांव का नागरिकों गांव का सरपंच बन सकता है।

 

Q. सरपंच के चुनाव का रिजल्ट कब आता है?

सरपंच के चुनाव का रिजल्ट चुनाव वाले दिन ही शाम के समय आ जाता है।

 

Q. निर्विरोध सरपंच बनने के क्या फायदे हैं?

निर्विरोध सरपंच बनने पर सरकार की तरफ से 15-28 लाख रुपए का विकास कार्य का भत्ता दिया जाता है।

 

Q. सरपंच का चुनाव कब होता है?

सरपंच का चुनाव प्रत्येक 5 वर्ष बाद होता है।

 

Q. क्या बिना पढ़े लिखे भी सरपंच बन सकते हैं?

हां, कुछ राज्यों में बिना पढ़े लिखे भी सरपंच बन सकते हैं। जैसे- राजस्थान में भी बिना पढ़े लिखे सरपंच बन सकते हैं।

 

Q. सरपंच बनने के लिए कितनी पढ़ाई करनी होती है?

सरपंच बनाने के लिए 8वीं पास 10वीं पास या 12वीं पास अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग योग्यता है।

 

Q. क्या महिला सरपंच बन सकती है?

हां, महिला सरपंच बन सकती है, लेकिन यह सीट के ऊपर निर्भर करता है। क्योंकि सरकार द्वारा प्रत्येक राज्य में महिला, पुरुष, सामान्य, एससी, एसटी, इत्यादि वर्ग के अनुसार और जेंडर के अनुसार सीटें प्रदान की जाती है।

 

Q. सरपंच बनने की उम्र क्या है?

सरपंच बनने की उम्र 18-21 वर्ष अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग निर्धारित की गई है।

 

Q. सरपंच कहां पर बैठता है?

सरपंच अपने गांव के ग्राम सेवा कार्यालय में बैठता है।

 

Q. सरपंच की सैलरी कितनी होती है?

सरपंच को हर महीने ₹3000 सैलरी मिलती है।

 

Q. सरपंच क्या कार्य करता है?

सरपंच ग्राम के विकास कार्य करता है। सरकार द्वारा गांव के विकास हेतु पेश किए गए बजट को अपनी देखरेख में सही ढंग से लगाता है और गांव को जरूरत के हिसाब से विकास कार्य प्रदान करता है।

 

Q. सरपंच को कौन हटा सकता है?

सरपंच को ग्रामीण लोग, वार्ड पंच और उपसरपंच भी हटा सकते हैं।

 

Q. सरपंच की शिकायत कहां पर एवं किससे करें?

सरपंच की शिकायत “जिला पंचायत राज अधिकारी” से कर सकते हैं।

 

Q. सरपंच का मोबाइल नंबर कैसे पता करें?

सरपंच के मोबाइल नंबर गांव के “ग्राम सेवा कार्यालय” के बाहर लिखे हुए होते हैं। वहां से आप प्राप्त कर सकते हैं।

 

Q. सरपंच की फुल फॉर्म क्या होती है?

सरपंच की फुल फॉर्म “गांव का मुखिया, पंचो में मुख्य, गांव का मुख्य व्यक्ति” होता है।

 

Conclusion

सरपंच का पद एक सम्मानजनक पद होता है। सरपंच गांव का मुखिया होता है। गांव का मुख्य व्यक्ति होता है। गांव पंचायत की सभी बैठकों में सरपंच को अध्यक्षता के लिए बुलाया जाता है और सरपंच के फैसले सभी को स्वीकार होते हैं। वर्तमान समय में सभी जाति धर्म के लोगों को और महिलाओं को भी सरपंच बनाने के लिए सरकार द्वारा सीटें उपलब्ध कराई जा रही है। लोग बढ़-चढ़कर सरपंच के चुनाव में हिस्सा ले रहे हैं और सरपंच के चुनाव में उम्मीदवार लाखों और करोड़ों रुपए भी खर्च कर देते हैं।

इसीलिए हमारे लिए यह जानना जरूरी है कि आखिर‌ सरपंच कैसे बनते हैं? सरपंच की योग्यता क्या है? सरपंच की सैलरी क्या है? सरपंच के अधिकार क्या है? सरपंच कौन-कौन से कार्य करता है? सरपंच की शिकायत कैसे करें? सरपंच को कौन हटा सकता है? सरपंच को निष्कासित करने के नियम क्या है? सरपंच की शिकायत किससे करें? सरपंच की शिकायत कहां पर करें? सरपंच कितना पैसा कमाता है? सरपंच की कमाई कितनी होती है? सरपंच को कौन-कौन सा भत्ता मिलता है? इत्यादि। सरपंच की सैलरी

यदि आप सरपंच के बारे में जानना चाहते हैं? तो इस आर्टिकल को शुरुआत से लेकर लास्ट तक ध्यानपूर्वक पढ़ें। इस आर्टिकल में हमने सरपंच से संबंधित विस्तार से संदर्भ में बताया है। इसीलिए हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी हुई यह जानकारी आपके लिए जरूर ही उपयोगी साबित हुई होगी। यदि आपका इस आर्टिकल से संबंधित कोई भी प्रश्न है? तो आप निसंकोच कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम पूरी कोशिश करेंगे कि जल्द से जल्द आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर दे सकें।